नरमे में कीटों की रोकथाम के लिए माहिरों के सुझाव

0

कीटों में एक है मिली बग, जिसका हमला आज–कल आम देखने को मिलता है। कृषि वैज्ञानिकों की माने तो इसमें अभी कोई स्प्रे करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि शुरुआत समय में परजीवी ही इनको नष्ट कर देते हैं।

नरमे की फसल जैसे–जैसे बढ़ रही है, साथ–साथ कीट या बिमारियों का हमला होना भी स्वाभाविक है। जैसे कि अब नरमे की फसल में फूल आ रहे हैं तो कीटों के हमले की संभावना भी ज़्यादा है। कृषि वैज्ञानिकों की माने तो इसमें अभी कोई स्प्रे करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि शुरुआत समय में परजीवी ही इनको नष्ट कर देते हैं।

यह जानकारी आप www.krushisamrat.comपर पढ रहे है !

इसके हमले से बचने के लिए किसानों को खेत का नियमित सर्वेखण करने की ज़रूरत है, ताकि समय रहते ही उचित कदम उठाये जाएं।

मिली बग की तरफ से किये जान वाले नुकसान:

कृषि माहिरों के अनुसार नमी वाला मौसम मिली बग के हमले के अनुकूल होता है। यह पौधों के रस चूसकर पौधों को इतना कमज़ोर कर देता है कि यह खत्म होने की स्तिथि पर पहुँच जाता है।

रोकथाम:

यदि खेत में दो–चार पौधों पर ही मिली बग का हमला दिखाई दे तो नुकसान वाले पौधों को उखाड़कर ज़मीन में दबा दें। यदि मिली बग के शरीर पर काले रंग के धब्बे हो तो यह अनेशिया नाम का परजीवी है, जो मिली बग को खत्म कर नष्ट करता है। यदि मिली बग का हमला ज़्यादा हो तो आप रासायनिक उत्पाद भी अपना सकते हैं जैसे कि प्रोफैनोफॉस 50 ई सी की 2.5 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करें।

यह जानकारी आप www.krushisamrat.comपर पढ रहे है !

थ्रिप और हरा तेल:

  • यदि नरमे पर इनका हमला दिखाई दे तो किसान निमिसडीन 1 लीटर या स्पिनोसेड (ट्रेसर) 60 मिलीलीटर को 150 लीटर पानी में मिलाकर प्रति एकड़ के हिसाब से स्प्रे करें।
  • इसके अलावा आप इमिडाक्लोप्रिड 17.8 SL @0.5 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी के हिसाब से स्प्रे करें।
  • इसके अलावा सभी किसान भाई नियमित तौरपर खेतों का सर्वेखण करते रहें ताकि भारी नुकसान से बचाव किया जा सके।

महत्वपूर्ण सूचना :- यह जानकारी कृषी सम्राट की वैयक्तिक मिलकीयत है इसे संपादित कर अगर आप और जगह इस्तमाल करना चाहते हो तो साभार सौजन्य:- www.krushisamrat.com ऐसा साथ में लिखना जरुरी है !

इस शृंखला के लिये आप भी अपनी जानकारी / लेख दुसरे किसान भाईयों तक पहुंचाने के लिये [email protected] इस ई -मेल आयडी पर अथवा 8888122799 इस नंबर पर भेज सकते है l आपने भेजी हुई जानकारी / लेख आपके नाम और पते के साथ प्रकाशित कि जायेंगी l

Leave A Reply

Your email address will not be published.