लौकी के खेत की तैयारी कैसे करें

0

लौकी की फसल हर प्रकार की भूमि में कर सकते है, लेकिन उचित जल जीवांश से युक्त दोमट मिट्टी इसकी खेती के लिए सबसे उत्तम है। इसके लिए भूमि का Ph उदासीन होना चाहिए, 6.5 से 7.5 बीच में होना महत्व पूर्ण माना गया हे।

लौकी के खेत की पहिले उसमें हरी खाद चाहिए। एक एकड़ जमीन के लिए 2 किलोग्राम सनई, 4 किलोग्राम मूग या दलहन, एक किलोग्राम तिलहन एवं 2 किलोग्राम ढेंचा बीज लेकर बुआई करनी चाहिए। जैसे ही यह फसल 45 दिनों की हो हैरो से जुताई कर 1000 लीटर बायोगैस स्लरी अगर संजीवक खाद डाल दे और सात दिनो बाद मिट्टी पलट हल से जुताई कर इसे खुला छोड़ दें। साथ दिनो के बाद तीन से चार बार देसी हल से जुताई कर खेत में पाता लगा कर इसे जमीन की बराबरी कर लें । उसके बाद 10-10 फीट पर 1 फीट गहरी तथा 2 फीट चौड़ी नालियां बनाकर 3-3 फिट के अंतराल में थावले बना कर प्रत्येक थावले में 1 किलोग्राम वर्मी कंपोस्ट खाद अगर गोबर की सड़ी खाद तथा 200 ग्राम राख मिलाकर थावला को ढक देते हैं, उसके बाद नालियों में सिंचाई करे। सिंचाई के पांच-छह दिन बाद बीजों की बुवाई करें। बुवाई करते वक़्त हर थावले में 4 से 6 बीज की बुवाई करे।

जलवायु :

लौकी की खेती के लिए धुप एवं आर्द्र जलवायु की जरुरत होती है। इसकी बुआई गर्मी आदि बरसात के वक़्त होती है। यह पाले को सहन करने में बिलकुल नामुकीन होती है।

बीज उत्पादन :

लौकी एक फसल है, लौकी का आनुवांशिक शुद्ध बीज उत्पादन प्राप्त करने के लिए दो भाग के बीच 800 मीटर की दूरी बननी की जरुरुत है। बीज उत्पादन करने वाले पौध की खास देखभाल जैसे- सिंचाई, निकाई-गुड़ाई, खरपतवार नियंत्रण, रोग आदि कीट नियंत्रण नुसार वक़्त पर करना चाहिए। यदि कोई पौधा किसी अन्य किस्म या रोग ग्रस्त का दिखाई दे तो उसको वक़्त पर निरीक्षण के समय कली आने से पहले उखाडकर फेंक देना। फूल व फल बनते समय फल पकते समय तीन बार करना चाहिए। जब फल पुरापक जायें तो फलों को तोड़कर सब जमा कर रखे बीज को गूदे से अलग साफ करने के बाद धूप में जब-तक सुखायें, बीज में नमी की मात्रा 9-10 प्रतिशत रह जाए। सूखे हुये बीज को शोधित करके सूखे काँच की बोतल में अच्छी तरह से ढक्कन बन्द करके सुरक्षित नमीस्थान में रख दें।

 

सदर सत्रासाठी आपण ही आपल्या कडील माहिती / लेख इतर शेतकऱ्यांच्या सोयीसाठी [email protected] या ई-मेल आयडी वर किंवा 8888122799 या नंबरवर पाठवू शकतात. आपण सादर केलेला लेख / माहिती आपले नाव व पत्त्यासह प्रकाशित केली जाईल.

Leave A Reply

Your email address will not be published.