Browsing Category

हिन्दी

लाल मूली (Red Radish) की खेती

लाल मूली भी एक फाइव-स्टार होटल व उच्च श्रेणी के सब्जी बाजार की दुकानों पर अधिक बेची जाती है तथा बाजार में अधिक मांग रहती है | इन लाल मूलियों को अधिकतर सलाद, पराठे एवं कच्ची सब्जी के रूप में अधिक खाया जाता है । इसका छिलका लाल रंग का जो तीखा

लेट्युस (Lettuce) – सलाद / काहु की खेती

'सलाद’ एक मुख्य सलाद की फसल है । अन्य सब्जियों की तरह यह भी सम्पूर्ण भारतवर्ष में पैदा की जाती है । इसकी कच्ची पत्तियों को गाजर, मूली, चुकन्दर तथा प्याज की तरह सलाद तथा सब्जी के प्रयोग में लाया जाता है । ये फसल मुख्य रूप से जाड़ों में

सेलेरी (Celery ) अजवाइन की खेती कैसे करें

यह सब्जी भी अन्य सब्जियों की तरह होटलों, रेस्टोरेन्टों तथा एम्बेसियों में प्रयोग की जाती है । इसके डंठल अधिक परिपक्व न होकर मुलायम ही कच्चे या पकाकर सूप में सुगंध के लिये अधिक प्रयोग किये जाते है। इसका प्रयोग दवाओं में भी किया जाता है ।

स्प्राउटिंग ब्रोकली की खेती

ब्रोकली भी एक गोभी वर्गीय पौष्टिक एवं विशेष सब्जियों में से है । इस सब्जी के पौष्टिक मूल्य का आंकलन किया जाये तो प्रथम स्थान प्राप्त होगा । इसके सेवन से हृदय रोग भी नियन्त्रित होते हैं । ब्रोकली के अन्तर्गत एक मुख्य फूल या शीर्ष (Main

स्विस चार्ड की खेती

यह एक पत्ती वाली सब्जी है जिसको वर्षीय पौधे के रूप में देखा गया है । यह अधिकतर एक वर्ष में ही समाप्त हो जाता है । इसका पौधा पालक के समान होता है । इसके पत्ते सुन्दर, चिकने तथा हरे रंग के होते हैं लेकिन पत्तियों का नीचे से डन्ठल कुछ सफेद सा

ब्रुसेल्स स्प्राउट की खेती

यह सब्जी भी गोभी वर्गीय सब्जियों में से है जिसको छोटा पत्ता गोभी (Baby Cabbage) भी कह सकते हैं । अर्थात् पौधों को वृद्धि करने के पश्चात् पत्तियों की गांठों (Nodes) से छोटे-छोटे बन्द गोभी बनते है तथा जो विकसित होकर 50-100 ग्राम तक के होते

संरक्षित खेती की लाभकारी तकनीक

संरक्षित खेती का मुख्य उद्देश्य सब्जी फसलों को जैविक या अजैविक कारकों से बचाकर उगाना होता है। इसमें फसल को किसी एक कारक या कई कारकों से बचाकर उगाया जा सकता है। संरक्षित सब्जी उत्पादन के लिये सब्जी उत्पादकों को खेती व विभिन्न संरक्षित

लाख से बनें लखपति

लाख, केरिया, लक्का, नामक कीट से उत्पादित होने वाली एक प्राकृतिक राल है। यह कीट पोषक वृक्ष के कोमल शाखाओं से रस चूसकर भोजन प्राप्त करते हुए, अपनी सुरक्षा हेतु राल का स्त्राव कर कवच का निर्माण करते हैं, जो हमें लाख के रूप में प्राप्त होती

बछड़ों के लिए खीस / बछडा प्रबंधन

खीस पशु के ब्योने के बाद थन से प्राप्त होने वाला पहला पदार्थ है, जिसमें रोग प्रतिरोधक गुण होते हैं। यह नवजात बछड़े को बीमारियों से बचाने के लिए आवश्यक है। महत्वपूर्ण बात यह है कि खीस को शरीर बहार का दसवां भाग जल्दी से जल्दी बछड़े को

पार्सले की खेती

यह भी विशेष प्रकार की सब्जियों में से एक हैं । जिसका आकार मॉस ग्रास के गुच्छे के समान होता है । इसका उपयोग अधिकतर सब्जियां सुगंधित एवं सुशोभित करने व सलाद के रूप में किया जाता है | इसको सूप के रूप में भी प्रयोग में लाते हैं । यह सब्जी